Chest cancer treatments

Chest cancer treatments ayurvedice medicine —-

1.kachanar gugglu -2T day and night With purnnvarist 2 spoon medicine +2 spoon water

2.kassor gugglu -2T spoon day and night With Amritarist 2 spoon medicine +2 spoon water

3.arogyvardhani ras+Rakt shodhak vati-1+1T day and night With water

————————————

Not-chikits advice on ous

Advertisements

Ayurvedic upchar joro ka dard. Gathiya,

नाड़ी-संस्थानगत दोषों की चिकित्सा -नाड़ी संस्थान से तात्पर्य है  मस्तिष्क से निकलने वाली 12  क्रेनियल  नवर्स एवं सुषुम्ना से निकलने वाली नाड़ी, गुच्छक व्  पेड़ू में क्रमशः  सर्वाइकल , क्रेनियल  व् पेल्विक प्लेक्सस बनाते है इसमें नर्वस सिस्टम भी  इसके अंतर्गत आता है औषधि –ज्योतिष्मती  (मलकनागनी  सिलेस्ट्रास )पैनिकुलेटस  इसके लिए सर्वश्रेष्ठ औषधि है. यह मस्तिक की समस्त नाड़ियों का पोषण करती है. दर्दनाशक  वनौषधि है पक्षा घात, सियाटिका, न्यूराइटिस, न्यूरेल्जिला, सर्वाइकल,  स्पॉन्डिलाइटिस,  लम्बेगो  आदि में शीघ्र लाभ करता है .मार्किट में उपलब्ध  मेडिसिन -स्वर्ण महायोग राज गुग्गलु +त्रैलोक्य चिंतामणि रस -दोनों में से एक -एक  गोली मिल्क के साथ day  -night  लें .हरिद्रा खंड +त्रिफला चूर्ण मिक्स कर -1  स्पून  विथ  हॉट वाटर Day -Night – स्वेलिंग  हो तो  कच्ची हल्दी  में थोड़ा चुना  डाल कर  हल्का गर्म कर लें .सूजन या दर्द स्थान पर पट्टी बांधें .

कैंसर  रोग -लिवर कैंसर –  एलोवेरा  जूस -10 ml मेडिसिन +10ml वाटर मिक्स  day  -night+पंचास्व +कालमेघासव +बायविंगडासव +पुर्ननवासव –   मिक्स —10  ml  मेडिसिन +10 ml  वाटर मिक्स कर –सुबह -शाम  दें कचनार गुग्गलु +Liv52  DS  -Himalayas  com .2 -2  T  Day एंड नाईट —-not -चिक्तिसक के देख रेख में प्रयोग करे.

Ayurvedice.blogspot.com

प्रकृति ने मानव को स्वस्थ रहने के लिए  हर वस्तु उत्तपन्न किया है  इन्ही प्रकृति पदार्थों से भारतीय ऋषि-मुनिओं की खोज की प्रतिफल आयुर्वेद प्राप्त जीवन औषधि है  वनौषधि चिकित्सा का मूल आधार है -सक्रिय संघटकों को नष्ट कीए बिना  उन्हें संस्थान विशेष के लिए उचित मात्रा में अनुपान भेद द्वारा जीवन शक्ति संवर्द्वन हेतु मुख मार्ग से देना .जहाँ आवश्यक हो वहां उन्हें स्थानीय उपचार हेतु प्रयुक्त करना .इसी दृष्टि से शरीर के विभिन्न अंगों के अनुसार चयन कर  आयुर्वेदिक औषधियों का वर्णन किया हूँ.